Ambrish K Gupta

12 Flips | 1 Magazine | 4 Following | @ambrishg | Keep up with Ambrish K Gupta on Flipboard, a place to see the stories, photos, and updates that matter to you. Flipboard creates a personalized magazine full of everything, from world news to life’s great moments. Download Flipboard for free and search for “Ambrish K Gupta”

इन दिनों : परी ऍम श्लोक

इनदिनों<br>मेरे हाथ<br>जिंदगी कि समझ का<br>इक मोती आ लगा है<br>मैं इसे जितना घिसती हूँ<br>ये उतना चमकता है<br>और<br>उतना ही प्रभावशाली<br>बनता चला जाता है<br>मुझमे मेरा …

मैने जीनाा सीख लिया है...

Views 141<p>मैने जीना सीख लिया<br>हाँ मैने जीना सीख लिया है.<br>तुमने सोचा मर जाऊँगा,यूँ ही तनहा सा घुट घुट कर.<br>मैं तुम बिन ना रह पाऊँगा,रोऊँगा सबसे छिप …

सोचा ना था

इस कदर इंतज़ार करना पड़ेगा, किसे पता था,<br>इस कदर बेकरार होना पड़ेगा, किसने सोचा था,<br>इस कदर याद आएगी तुम्हारी, मालूम न था,<br>तुम प्यार बेइंतहा दोगी, गुमान ना …

अजनबी

वो पल दो पल भी ठहर ना सके,लब हिले पर शब्द मिल ना सके<br>अनजानी सी राहों में मिले थे कभी,रास्ते फिर क्यों जुदा हो गये<br>अजनबी हम फिर अजनबी हो गये<p>यूं तो कोई …

काँटों में फूलो को खिलते हुए धेका है...

Views 142<p>Kanto main phulonko khilte hue dekha hai,<br>Tufano main kashtiyonko sambhalte hue dekha hai,<br>Andhero ko ujalon main dhalte hue dekha hai,<br>Hamane …

Maa Tum Bhut Yaad Aati Ho

Maa tum dil me basti ho<br>maa tum meri nas nas me basti ho<p>maa jab main rota tha<br>muje chup karaate karaate khud ro padti thi<br>mujhe sulaa te sulaate khud so …

फरियाद

Views 214<p>short-poem 4-liners<p>कदम ठहरे हैं मेरे अब भी वहॉं अलविदा किया तुमको जहां<br>लौट आओ बस एक बार,फरियाद यह कैसे करूं बात मैं तुमसे कैसे करूं<br>रूठे हो …

मेरी कहानी मेरी जुबानी

आज आया में दुनिया में<br>आज देखा मेने ये संसार<br>बड़ा ही प्यारा बड़ा ही सुन्दर हे ये संसार<br>माँ ने मुझे अपने गले से लगाया<br>उसने मुझे आज अपना बताया<br>डॉ. ने मेरे पापा …

सपने हैं

Views 101<p>उभरती हुई सूरज की किरणों में<br>आशा भरी हर एक लड़की की आँखों में<br>ओस की बूंदों की चमक में<br>हर नदी की ऊर्जा भरी लहर में<br>दौड़ते हुए बच्चों की खेल …

माँ

Views 94<p>माँ तू मुझे याद आती है<br>बहुत याद आती है !<br>बचपन न जाने कब ख़त्म हुआ ,<br>तेरा साथ कभी मिला<br>कभी नहीं मिला ,<br>पर तू मन से सदैव रही साथ मेरे ,<br>सुख दुःख में …